Health

हाथ में इन 2 संकेतों का दिखना है हाई कोलेस्ट्रॉल का संकेत, तुरंत डॉक्टर से सलाह लें…

हर कोई स्वस्थ रहना चाहता है, लेकिन गलत खान-पान और अनियमित जीवनशैली के कारण लोगों को कई तरह की बीमारियां अपनी चपेट में ले लेती हैं। कई लोग ऐसे होते हैं जो किसी न किसी बीमारी से परेशान रहते हैं। आज के समय में बहुत से लोग कोलेस्ट्रॉल की समस्या से परेशान हैं। अगर शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है तो इससे हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है।

आपको बता दें कि लीवर द्वारा शरीर में उत्पादित मोम या वसा जैसे पदार्थ को कोलेस्ट्रॉल कहा जाता है। विभिन्न शारीरिक कार्यों को करने के लिए शरीर में कोलेस्ट्रॉल की सही मात्रा का होना बहुत जरूरी है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने से हृदय रोग की समस्या का सामना करना पड़ता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, अगर शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है, तो हृदय संबंधी बीमारियों और स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है। इसके अलावा ग्लोबल हेल्थ एजेंसी का कहना है कि दुनिया में एक तिहाई लोग ऐसे हैं जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने के कारण दिल से जुड़ी बीमारियों का सामना कर रहे हैं।

आपको बता दें कि शरीर में हाई कोलेस्ट्रॉल के कोई लक्षण नहीं होते हैं। इसी कारण इसे साइलेंट किलर भी कहा जाता है। यही कारण है कि हाई कोलेस्ट्रॉल को बहुत खतरनाक माना जाता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल का क्या मतलब है?
सबसे पहले तो हम आपको बता दें कि शरीर में अस्वस्थ कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं। संतृप्त वसा का सेवन, मोटापा, शारीरिक निष्क्रियता, धूम्रपान और शराब का सेवन भी शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है। अब बात करते हैं कि हाई कोलेस्ट्रॉल का मतलब क्या है? तो आइए बताते हैं कि यह खून में मौजूद एक प्रकार का मोम है।

कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार के होते हैं
डॉक्टरों के मुताबिक शरीर में दो तरह के कोलेस्ट्रॉल होते हैं। एक है अच्छा कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) और दूसरा है खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल)। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए बहुत खतरनाक साबित होता है। अगर यह बढ़ जाए तो शरीर में कई तरह की समस्याएं पैदा करने लगता है।

जब शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है, तो इससे हमारे शरीर की रक्त वाहिकाओं में वसा जमा होने लगती है। जैसे-जैसे यह वसा बढ़ती जाती है, आपकी धमनियों में रक्त संचार भी बहुत मुश्किल हो जाता है। कभी-कभी जब ये वसा टूटते हैं, तो रक्त में थक्के बन जाते हैं, जिससे दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा काफी बढ़ जाता है।

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि शरीर में उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर के कोई संकेत नहीं होते हैं, लेकिन शरीर में एक अनुभूति हो सकती है, जिससे यह पता चल सकता है कि शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ गया है।

यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम अपने शरीर में कोलेस्ट्रॉल का संतुलित स्तर बनाए रखें क्योंकि इससे धमनियों में वसा जमा हो सकती है, जिससे हाथ और पैरों में रक्त संचार कम हो जाता है। ऐसी स्थिति को परिधीय धमनी रोग (पीएडी) कहा जाता है, जिससे हाथ और पैरों में गंभीर दर्द हो सकता है।

मेयो क्लिनिक के अनुसार, अगर कोई भी काम करते समय आपके हाथ-पैरों में दर्द होता है, तो यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर बढ़ने का संकेत है। अगर आप इस समय इलाज नहीं कराते हैं तो आपको कोई भी काम करते समय दर्द के साथ-साथ ऐंठन की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है।

जब आपका शरीर आराम की स्थिति में होता है और आप तुरंत कोई काम करने लगते हैं तो अंगों में यह ऐंठन होने लगती है। यूके नेशनल हेल्थ सर्विस के अनुसार, हाथ-पैर में ये ऐंठन कभी-कभी हल्की लेकिन कभी-कभी बहुत दर्दनाक होती है।

जानिए क्या है परिधीय धमनी रोग?
परिधीय धमनी रोग एक ऐसी बीमारी है जिसमें आपके सिर, अंगों और पैरों तक रक्त ले जाने वाली धमनियों में कोलेस्ट्रॉल जमा हो जाता है। यह एक सामान्य परिसंचरण संबंधी समस्या है, जिसमें धमनियां बहुत अधिक चौड़ी हो जाती हैं, जिससे पैरों और बांहों तक उचित मात्रा में रक्त नहीं पहुंच पाता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल का मतलब सिर्फ बांह में दर्द नहीं है, आपको बता दें कि हाथ में दर्द सिर्फ हाई कोलेस्ट्रॉल की वजह से नहीं होता, बल्कि इसके पीछे और भी कई कारण हो सकते हैं। कंधे और बांह का दर्द दिल के दौरे और एनजाइना का भी संकेत हो सकता है, जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि के कारण होता है। इसके अलावा हाथ दर्द के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे तनाव, चोट आदि।

Back to top button